टीकमगढ़

जतारा :- त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में निर्वाचन आयोग के नियमों की अनदेखी प्रत्याशी पुत्र को जिताने के लिए मां ने लगावाई मतदान केंद्र पर ड्यूटी

बालकिशन प्रजापति एमपीसीजी एक्सप्रेस न्यूज़

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में निर्वाचन आयोग के नियमों की अनदेखी प्रत्याशी पुत्र को जिताने के लिए मां ने लगावाई मतदान केंद्र पर ड्यूटी

जतारा :- राज्य निर्वाचन आयोग ने भले ही त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को निष्पक्ष सम्पन्न करने के लिए निर्देश जारी किए गए थे लेकिन जतारा विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत ग्राम पंचायत बमोरी कला के मतदान क्रमांक 95 पर खुलेआम नियमों की अनदेखी की गई है और यहां पर पंचायत चुनाव में राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देशों के की अनदेखी की गई है और इतना ही नहीं यहां पर जिला पंचायत के वार्ड क्रमांक 10:00 पर जिला पंचायत के चुनाव में एक प्रत्याशी ऐसी भी जिसके पिता संकुल प्राचार्य बम्हौरीकलां आत्मराम वर्मा मां श्रीमति प्रेमकुंवर बंसल ने उसी वार्ड के शासकीय माध्यमिक शाला विद्यालय में प्रधानाध्यापक के पद पर पदस्थ हैं, और के द्वारा अपने पुत्र मंयक वर्मा को चुनाव जिताने के लिए बीते 29 जून को संकुल केन्द्र बम्हौरीकलां क्षेत्र के सभी शिक्षकों शैक्षिक व्यवस्था का हवाला देकर चुनाव की मीटिंग बुलाई और शिक्षकों को मैसेज जारी किया गया और परिषद में मीटिंग ली गई उसके चुनाव प्रचार के निर्देश दिए गए।
लेकिन हद तो जब हो गई जब मतदान के दिन
अधिकारियों ने भी इतनी अनदेखी की गई कि वहां पर मतदान क्रमांक 95 पर जिला पंचायत सदस्य पद उम्मीदवार मंयक वर्मा की मां श्रीमति प्रेमकुंवर बंसल बम्हौरीकलां में बीते बीस साल पदस्थ हैं और पुत्र को चुनाव जीताने के लिए नियमों को दरकिनार करते हुए अधिकारी ने सांठगांठ कर चुनाव में ड्यूटी लगवाई और चुनाव को प्रभावित करने का काम किया गया और जब इस मामले को लेकर अन्य प्रत्याशियों व ग्रामीण जनों ने मतदान केंद्र पर जब यह नजारा देखा कि जिस कर्मचारी की वहां पर ड्यूटी लगाई गई है वह ड्यूटी ना कर अपने पुत्र को चुनाव जिताने के लिए अंदर प्रचार किया जा रहा था जब इस मामले की शिकायत सेक्टर मजिस्ट्रेट और जतारा एसडीएम से की गई तो उसके बाद मामले को बढ़ता देख अधिकारियों ने आनन-फानन में सेक्टर मजिस्ट्रेट एवं तहसीलदार दिव्या जैन ने उक्त प्रत्याशी मयंक बर्मा की मां श्रीमति प्रेम कुमार बंसल को चुनाव ड्यूटी से अलग किया तब कहीं जाकर 10:00 बजे के बाद मतदान शांतिपूर्ण तरीके से प्रारंभ किया गया जिसको लेकर न केवल तरह-तरह की चर्चाएं गर्म हैं बल्कि इस बात को लेकर भी सवाल उठ रहे हैं कि चुनाव ड्यूटी के समय अधिकारियों के द्वारा कर्मचारियों से यह भी जानकारी दी जाती है कि किसी भी कर्मचारी के परिजन जहां पर उनकी ड्यूटी लग रही है वहां से चुनाव तो नहीं लड़ रहे हैं, अगर लड़ रहे हैं तो उनकी ड्यूटी अन्य क्षेत्र में लगाई जाना चाहिए लेकिन पलेरा तहसील के अंतर्गत आने वाली बमोरी कला ग्राम पंचायत में ऐसा नहीं हुआ और नियमों को दरकिनार कर अधिकारियों ने ड्यूटी लगाई जिससे शासन के नियमों को ना किया गया है। प्रत्याशियों सहित ग्रामीण ने इस मामले को लेकर अधिकारियों की कार्यप्रणाली को लेकर सवाल उठ रहे हैं।इतना ही नहीं इस मामले को लेकर कई प्रत्याशियों ने इस मामले की निष्पक्ष जांच कराए जाने की मांग निर्वाचन आयुक्त की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close