दमोह

दमोह :- मीट दुकानों का ग्रामीणों ने विरोध कर सौपा ज्ञापन

मनोहर शर्मा एमपीसीजी एक्सप्रेस न्यूज़

जबेरा में मांस मटन की दुकानें मीट मार्केट में शिफ्ट होने से पहले ग्रामीणों ने जताई आपत्ति मीट मार्केट अन्यत्र जगह शिफ्ट करने की मांग को लेकर जबेरा तहसीलदार को दिया ज्ञापन

दमोह :- जबेरा नगर के आसपास धार्मिक व सार्वजनिक स्थलों समीप लग रही मांस मटन की दुकानों को लेकर विगत दिनों हिंदू संगठनों के द्वारा मांस मटन की दुकान हटाए जाने को लेकर जबेरा थाने में एक ज्ञापन दिया गया था और 2 दिन के अंदर सार्वजनिक व धार्मिक स्थलों के समीप से मांस मटन की दुकान नहीं हटाए जाने के विरोध में 11 जनवरी को जबेरा बंद का आवाहन किया गया था जिसके चलते जबेरा थाना प्रभारी तहसीलदार जनपद सीईओ के द्वारा मछली व्यवसाई ग्राम के जनप्रतिनिधियों के साथ एक बैठक करके नगर के धार्मिक स्थलों में लग रही मांस मटन की दुकानों को 16 जनवरी से मीट मार्केट में शिफ्ट करने सहमति बनाई गई थी। लेकिन मीट मार्केट में मांस मटन की दुकानें शिफ्ट होने के पहले ही मीट मार्केट से लगे आवासीय क्षेत्र के ग्रामीणों ने मीट मार्केट में मांस मटन की दुकान है लगाने जाने आपत्ति दर्ज करते हुए है जबेरा तहसीलदार अरविंद यादव को एक ज्ञापन सौंपते हुए मांस मटन की दुकानें मीट मार्केट में नही लगाए जाने की मांग की है।

ग्रामीणों ने बताया जहां मीट मार्केट लगाना निश्चित हुआ है उस पर स्थानीय लोगो को आपत्ति है क्योंकि मीट मार्केट से लगा हुआ चंड़ी माता का मन्दिर होने के साथ साथ आवासीय मकान है जिसके चलते स्थानीय महिलाएं निस्तार पानी भरने इत्यादि कार्य में उस स्थान का उपयोग करती हैं यहां पर मीट मार्केट शिफ्ट होने से स्थानीय लोगों को अनेकों परेशानियों का सामना करना पड़ेगा मीट मार्केट से लगे लोगों के मकान भी हैं वहीं से चंडी माता मंदिर स्तिथ है और श्रद्धालुओं को जाने के लिए रास्ता है घोसी मोहल्ला बीड़ी कॉलोनी एवं धनगर मोहल्ला मैं निवासरत महिलाएं दैनिक उपयोगी पानी के लिए तालाब व पेयजल के लिए हैंडपंप जाना पड़ता है जहाँ पर मीट मार्केट में मांस मटन की दुकान लगने से निकट भविष्य में ग्रामवासियो का दुर्गंध से जीना मुश्लिक हो जाएगा।

ज्ञापन में बहादुर सिंह घोषी, उमाकांत ठाकुर, दीपक सेन नीरज जायसवाल, अमन ठाकुर, रितेश ठाकुर,भल्लू ठाकुर आशू ठाकुर, आशीष मिश्रा, गजेन्द्र ठाकुर,ने मीट मार्केट की जगह मांस मटन की दुकानें आवासीय क्षेत्र हटकर अन्य जगह शिफ्ट करने की मांग की गई है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close