दमोह

दमोह :- मकर संक्रांति पर्व पर मंदिरों में नही लगेगा मेला, आस्था की डुबकी के साथ होंगे दर्शन

मनोहर शर्मा एमपीसीजी एक्सप्रेस न्यूज़

मकर संक्रांति पर्व पर बांदकपुर, महादेव घाट मेला नही लगेंगे, मंदिरों में दर्शन मात्र नदियों में लगेगी आस्था की डुबकी

दमोह :- बुंदेलखंड के प्रसिद्ध तीर्थ स्थल देव श्री जागेश्वर नाथ महादेव धाम बांदकपुर सहित जनपद जबेरा रोड बनवार अंचल की शून्य नदी तट पर लगने वाले महादेव महादेव मेला मकर संक्रांति पर्व के मौके पर इस बार नहीं लगेगा। सदियों बाद बाद यह पहला मौका है जब ये मेला नहीं लग रहा है। मेला नहीं लगने से स्थानीय दुकानदार और व्यवसायी मायूस हैं। ग्रामीणों में भी जबरदस्त निराशा देखी जा रही है। जिला प्रशासन की ओर से कोरोनावायरस संक्रमण के खतरे को लेकर मेले पर पाबंदी लगाई गई है। दरअसल मकर संक्रांति के एक सप्ताह पहले जिस स्थान पर मेला को लेकर गहमागहमी शुरू हो जाती थी और दूरदराज के व्यापारी पहुंचने लगते थे। वहां आज सन्नाटा पसरा हुआ है।

1865 में बड़े पैमाने पर पर्वो के अवसरों जागेश्वरनाथ नाथ धांम में भरने लगे थे मेले –
1865 में मैं बड़े पैमाने पर पर्वों के अवसर पर जागेश्वर नाथ दमोह बांदकपुर में मेले भरने लगे थे सन 1969 मैं इन मिलों की साफ सफाई का काम सरकार द्वारा किया जाने लगा था स्थानीय लोग मेले में पहुंचते थे। धीरे-धीरे इसका स्वरूप बदलता गया और पूरे बुंदेलखंड से लोगों का मेला पहुंचना शुरू हो गया था यह पहला अवसर होगा 1556 वर्ष बाद मिला नहीं भरेगा इसी तरह रोंड ग्राम के महादेव घाट मेला का आयोजन कब से हो रहा है इसका तो कोई रिकॉर्ड नहीं है लेकिन स्थानीय लोग बताते हैं जन्म काल से ही मकर संक्रांति पर्व पर महादेव घाट तट पर मेला भरते देखते चले आ रहे हैं यह पहला मौका होगा जब मकर संक्रांति पर्व पर महादेव घाट मेला नहीं भरेगा!

मकर संक्रांति पर्व पर जागेश्वरनाथ महादेव शिवलिंग पर जल चढ़ाने को नही मिलेगा दूर से होंगे दर्शन – मकर संक्रांति का त्‍यौहार हिन्‍दू धर्म के प्रमुख त्‍योहारों में से एक है मकर संक्रांति में स्‍नान, दान, पुण्‍य, जप, तप, शिवलिंग को जल चढ़ाने आदि से सौ गुना फल प्राप्‍त होता है लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते मन्दिर ट्रस्ट के महा प्रवंधक राम कृपाल पाठक ने बताया कि मकर संक्रांति पर्व पर दूर से शिवलिंग के दर्शन तो श्रद्धालुओ को प्राप्त होने लेकिन गर्भगृह में प्रवेश निषेध होने के साथ जल चढ़ाने की अनुमति नही होगी और मेले पर शासन के द्वारा पहले से हो प्रतिवंध लगाया गया है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close