टीकमगढ़

टीकमगढ़ :- बाल सुरक्षा के लिए सेहत की दस्तक घर-घर

एम.ए.खानअफसर एमपीसीजी एक्सप्रेस न्यूज़

जिले में दस्तक अभियान 11 जनवरी से 13 फरवरी 2021 तक
कलेक्टर सुभाष कुमार द्विवेदी ने की अपील

टीकमगढ़:- कलेक्टर सुभाष कुमार द्विवेदी के निर्देशन में जिले में दस्तक अभियान 11 जनवरी से 13 फरवरी 2021 तक चलाया जायेगा। श्री द्विवेदी ने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया है कि दस्तक अभियान के संचालन का क्रियान्वयन सफलता पूर्वक किया जाये। साथ ही अभियान कोविड-19 के बचाव एवं नियंत्रण के लिए शासन की गाईडलाईन अनुसार चलाया जाये।

उन्होंने निर्देशित किया कि अभियान के अन्तर्गत स्वास्थ्य विभाग एवं महिला बाल विकास विभाग के मैदानी कार्यकर्ता द्वारा 9 वर्ष तक के उम्र के बच्चों को विटामिन ए की खुराक अवश्य पिलवाना सुनिश्चित करें। कलेक्टर श्री द्विवेदी ने जिलेवासियों से अपील की है कि वे अपने 9 माह से 5 साल तक के बच्चों को विटामिन ए की खुराक अवश्य पिलवायें। उन्होंने कहा कि विटामिन ए की खुराक से कोई बच्चा वचिंत न रहे। उन्होंने कहा कि विटामिन ए संक्रमण के खिलाफ बच्चों की मदद करता है। यह बच्चों में हर स्तर पर विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है साथ ही दस्त के कारण होने वाली मृत्यु दर को भी कम करता है। विटामिन ए बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि करता हैं और डायरिया और निमोनिया के प्रकोप में भी कमी आती है उन्होंने कहा कि जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों और आंगनवाडी केन्द्रों पर विटामिन ए उपलब्ध करवा दिया गया है।

     प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.ओपी अनुरागी ने बताया कि दस्तक अभियान का उद्देश्य समुदाय स्तर पर 5 वर्ष तक के बच्चों में प्रमुख बाल्यकालीन बीमारियों गंभीर कुपोषण, गंभीर अनीमिया, निमोनिया, दस्त, निर्जलीकरण, खतरे के लक्षणों, जन्मजात विकृतियों तथा अन्य बिमारियों की सक्रिय पहचान कर शीघ्र प्रबंधन सुनिश्चित करना है, ताकि बाल मृत्यु दर में कमी लायी जा सके। उन्होंने बताया कि अभियान के दौरान बीमार नवजातों और बच्चों की पहचान, 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में शैशव एवं बाल्यकालीन निमोनिया की त्वरित पहचान, 5 वर्ष से कम उम्र के बीमार गंभीर कुपोषित बच्चों की सक्रिय पहचान, 6 माह से 5 वर्ष तक के बच्चों में गंभीर एनीमिया की सक्रिय स्क्रीनिंग एवं प्रबंधन, 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में बाल्यकालीन दस्त रोग के नियंत्रण हेतु ओ.आर.एस. एवं जिंक के उपयोग संबंधी समझाईश व प्रत्येक घर में ओ.आर.एस. पहुचाया जायेगा। उन्होंने बताया कि दस्तक अभियान मे 9 माह से 5 वर्ष तक के समस्त बच्चों को विटामिन अनुपूरण, बच्चों में दिखाई देने वाली जन्मजात विकृतियों एवं वृद्धि विलंब की पहचान करना , समूचित शिशु एवं बाल आहारपूर्ति व्यवहार को बढ़ावा देना एस.एन.सी.यू एवं एन.आर.सी से छुट्टी प्राप्त बच्चों में बीमारी की स्क्रीनिंग करना तथा फॉलोअप को प्रोत्साहन देना है इसके अलावा गृहभेंट के दौरान आंशिक रूप से टीकाकृत व छुटे हुये बच्चों की टीकाकरण स्थिति की जानकारी ली जायेगी।          एम.ए.खानअफसर एमपीसीजी एक्सप्रेस न्यूज़

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close