छतरपुर

मुख्यमंत्री ने लिधौरा में की जनसभा, उपचुनाव का शंखनाद प्रद्युम्र के लिए वोट मांगे, घोषणाओं की लगाई झड़ी

एमपीसीजी एक्सप्रेस न्यूज़

जनता तय करे कि कांग्रेस सरकार गिराने का फैसला सही था: शिवराज

मुख्यमंत्री ने लिधौरा में की जनसभा, उपचुनाव का शंखनाद

प्रद्युम्र के लिए वोट मांगे, घोषणाओं की लगाई झड़ी

10 करोड़ के विकास कार्यों का लोकार्पण, 392 करोड़ की सिंचाई योजना का भूमिपूजन

बड़ामलहरा। मप्र में होने वाले उपचुनावों के पहले प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने चुनावी रंग में रंगे नजर आ रहे हैं। उन्होंने मंगलवार की दोपहर 3 बजे बड़ामलहरा विधानसभा क्षेत्र के ग्राम लिधौरा में एक सरकारी कार्यक्रम को चुनावी जनसभा में तब्दील कर दिया। वैसे तो उक्त कार्यक्रम क्षेत्र में हुए 10 करोड़ रूपए के विकास कार्यों के लोकार्पण और 392 करोड़ की काठन वृहद सिंचाई परियोजना के भूमिपूजन के लिए आयोजित किया गया था। जिला प्रशासन ने हितग्राहियों को लाभान्वित करने के नाम पर इस कार्यक्रम को हितग्राही सम्मेलन का अमलीजामा भी पहनाया लेकिन शिवराज जब मंच पर आए तो वे चुनावी रंग में दिखे। उन्होंने संभावित होने के बाद भी प्रद्युम्र सिंह के लिए और भाजपा के लिए जनता से वोट मांगे। इतना ही नहीं उन्होंने कांग्रेस को जमकर कोसा साथ ही जनता से कहा कि आगामी उपचुनाव में आप भाजपा को वोट कर यह साबित कर देना कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिराकर हमने ठीक किया। इस जनसभा में मंच पर प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा, पूर्व मुख्यमंत्री उमाभारती, वरिष्ठ नेता गोपाल भार्गव, विधायक हरिशंकर खटीक, पूर्व विधायक ललिता यादव, रेखा यादव, जिलाध्यक्ष मलखान सिंह, पुष्पेन्द्र प्रताप सिंह, अर्चना सिंह, रामनाथ यादव और प्रद्युम्र लोधी मौजूद रहे।

काठन सिंचाई योजना से बदलेगी 74 गांव की तकदीर

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को जिस काठन वृहद सिंचाई परियोजना का भूमिपूजन किया है उससे बड़ामलहरा विधानसभा क्षेत्र के 74 गांव की तकदीर बदल सकती है। 392.71 करोड़ रूपए लागत से प्रस्तावित इस योजना के अंतर्गत बड़ामलहरा के आमखेरा के निकट काठन नदी पर बांध बनाया जाएगा। बांध के डूब क्षेत्र में 5 ग्रामों की 734.68 हेक्टेयर निजी भूमि एवं 289.75 हेक्टेयर शासकीय भूमि व 260.34 हेक्टेयर वनभूमि जलसंसाधन विभाग द्वारा अधिग्रहीत की जाएगी। इस बांध से बड़ामलहरा, घुवारा और भगवां क्षेत्र के 74 गांव की 15 हजार हेक्टेयर जमीन को सिंचित करने की योजना है। इस योजना की पूर्णत: के पश्चात वर्षों से चली आ रही सूखे की समस्या से किसानों को निजात मिल सकेगी। इस योजना के अंतर्गत घुवारा तहसील के पनवारी, चूरामनखेरा, चरखाखेरा, रिछारा, मूसनखेरा, चौनाउन खेरा, बांकपुरा, झिंगरी, माखनपुरा, रामपुरा, कुंवरपुरा सहित 19 गांव भगवां क्षेत्र के भगवां, जनकपुरा, मथानीखेरा, कुसाल सहित 16 गांव, बड़ामलहरा क्षेत्र के लिधौरा, पथरिया, पिपराकला, ग्वालगंज, सैरोरा, वीरों, धरमपुरा, बमनी सहित 39 गांव लाभान्वित होंगे।

शिवराज ने एक सांस में कर डाली दर्जनों घोषणाएं

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लिधौरा के मंच पर अपनी चिर-परिचित शैली में नजर आए। उन्होंने पूर्व विधायक प्रद्युम्र सिंह के द्वारा सौंपे गए मांग पत्र को पढ़ते हुए एक ही सांस में दर्जन भर से अधिक घोषणाएं कर डालीं। उन्होंने कहा कि बड़ामलहरा में 100 बिस्तर का अस्पताल अपग्रेड होगा। बक्स्वाहा और बडामलहरा में डिवाईडर बनेंगे, भगवां को नगर पंचायत का दर्जा देंगे, घुवारा में आगामी सत्र से कॉलेज खुलेगा, बम्हौरी में उपस्वास्थ्य केन्द्र बनाएंगे, भीमकुण्ड सहित अन्य ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व की जगहों को पर्यटन क्षेत्र के रूप में विकसित करेंगे, लिधौरा में हाई स्कूल उन्नयन और नवीन सोसायटी भवन का निर्माण भी होगा। उन्होंने पूर्व में दी गई बानसुजारा बांध की सौगात का भी जिक्र किया और कहा कि उनका लक्ष्य है कि हर घर में नल से पानी आए।

सूखी फसलें लेकर विरोध करने पहुंचे किसान

मुख्यमंत्री के कार्यक्रम के दौरान ही कई किसान अपनी उड़द, सोयाबीन एवं तिली की सूखी फसलें लेकर पहुंच गए। किसानों का कहना था कि इस वर्ष बारिश और बीमारी के कारण उनकी फसलें खराब हो गई हैं। मुख्यमंत्री को उक्त फसलें देखकर मुआवजे का ऐलान करना चाहिए। फसलों के खराब होने की बात बड़ामलहरा के पूर्व विधायक प्रद्युम्र सिंह ने भी मंच से रखी जिसके बाद शिवराज सिंह ने मंच से ही कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह को फसलों के सर्वे के निर्देश दिए।

कमलनाथ कभी खेत देखने नहीं गए

शिवराज सिंह चौहान ने अपने लगभग पौन घंटे के भाषण के दौरान कांग्रेसियों को भी जमकर कोसा। कहा कि 15 महीने की कांग्रेस सरकार में कमलनाथ कभी अपने कमरे से बाहर नहीं निकले। उन्होंने गाना गाकर कहा कि तेरी प्यारी-प्यारी सूरत को किसी की नजर न लगे कि तर्ज पर कमलनाथ भोपाल और छिंदवाड़ा में ही बैठे रहे। किसानों पर मुसीबत आती है तो मैं दौड़कर उनका दुखदर्द सुनने खेतों में पहुंच जाता हूं। उन्होंने छतरपुर की जनता से पूछा कि क्या कभी कमलनाथ आपके खेतों को देखने आए।

छतरपुर का मेडिकल कॉलेज कांग्रेस सरकार ने छीना

प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लिधौरा में आयोजित जनसभा के दौरान छतरपुर का ज्वलंत मुद्दा भी छेड़ा। उन्होंने कहा कि वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव के पहले उन्होंने छतरपुर जिले को मेडिकल कॉलेज की सौगात दी थी और इसके लिए बजट भी जारी कर दिया था लेकिन जब कांग्रेस की कमलनाथ सरकार सत्ता में आयी तो कांग्रेसियों ने जिले का मेडिकल कॉलेज निरस्त ही करा दिया। उन्होंने जनता से पूछा कि क्या छतरपुर में मेडिकल कॉलेज बनना चाहिए, जिस पर जनता ने हाथ उठाकर हामी भरी लेकिन शिवराज ने यह नहीं कहा कि वे जल्द ही छतरपुर में मेडिकल कॉलेज बनाएंगे। मंच पर ही छतरपुर मेडिकल संघर्ष मोर्चा ने भाजपा नेता डॉ. रमेश असाटी के नेतृत्व में मुख्यमंत्री को छतरपुर में शीघ्र मेडिकल कॉलेज खुलवाने एवं बजट जारी करने संबंधी मांग पत्र भी सौंपा लेकिन इस मांग पत्र को लेने के बाद भी शिवराज ने कोई ठोस आश्वासन नहीं दिया। मांग पत्र सौंपते समय मेडिकल संघर्ष मोर्चा की ओर से हरिप्रकाश अग्रवाल, सुरेन्द्र अग्रवाल, रिटायर डिप्टी कलेक्टर आरबी वर्मा, दीपक चौरसिया मौजूद रहे।

उमा ने कहा जल्द पूरा होगा केन-बेतवा प्रोजेक्ट  

उमा भारती ने भी उक्त सभा में अपने विचार रखे और कहा कि प्रद्युम्र सिंह पुराने भाजपाई हैं। प्रदेश में सत्ता की स्थापना कर उन्होंने शिवराज को इसकी कमान सौंपी थी। आज प्रदेश समृद्ध हो रहा है तो उन्हें इस बात पर गर्व है। उन्होंने कहा कि जितनी अच्छी सरकार शिवराज चला रहे हैं उतनी तो शायद वे भी नहीं चला सकती थीं। उन्होंने कहा कि जल्द ही छतरपुर जिले का बहुप्रतीक्षित केन-बेतवा प्रोजेक्ट भी पूरा होगा। बुन्देलखण्ड विकास से अछूता नहीं रहेगा। उन्होंने आगामी उपचुनाव में प्रद्युम्र सिंह के लिए वोट मांगते हुए जनता से कहा कि आपका एक वोट प्रद्युम्र के साथ मुझे भी मिलेगा।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close