टीकमगढ़

एडमीशन के नाम पर जमकर वसूली

एम.ए.खान अफसर टीकमगढ़

 

# प्रदेश की शिक्षा नीति एक,नियम मापदंड सभी के लिए एक,पाठ्यक्रम एक और परीक्षाओं का समय भी एक तो क्यों शहर के शासकीय स्कूलों की एडमीशन फीस अलग-अलग है ?

यूं तो प्रदेश की शिक्षा नीति सम्पूर्ण जिलों में एक साथ पालन की जाती है पर म.प्र. का टीकमगढ़ शहर प्रदेश में इकलौता होगा जहां के शासकीय हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी विद्यालयों में पढ़ने के लिए छात्र-छात्रों से अलग-अलग एडमीशन फीस बसूली जाती है।
राज्य शासन एवं स्कूल शिक्षा विभाग बोर्ड की फीस सम्पूर्ण प्रदेश में एक समान है पर एडमीशन के नाम पर छात्र-छात्राओं से अत्यधिक फीस वसूलना कहां का न्याय है ? हायर सेकेंडरी में शासकीय उत्कृष्ट हायर सेकेण्डरी स्कूल क्रमांक-1 एवं शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल क्रमांक-2 सबसे अब्बल है और हाई स्कूल में शासकीय हाई स्कूल अनंतपुरा एवं महाराजपुरा अव्वल है इससे गरीब बेबस, दलित, आदिवासी और अल्पसंख्यक वर्ग के छात्र-छात्राएं सीधे तौर पर प्रभावित है। म.प्र. शासन स्कूल शिक्षा विभाग के उप सचिव के.के. द्विवेदी के पत्र क्रमांक- एफ 50-4/2020/20-3 दिनांक 4 सितम्बर 2020 को प्रदेश के सभी कलेक्टर्स एवं जिला शिक्षा अधिकारी को भेजे पत्र में कहा गया है कि लाॅकडाउन अवधि में पालकों द्वारा गैर अनुदान प्राप्त अशासकीय विद्यालय मात्र शिक्षण शुल्क प्रभारित किया जा सकेगा इसके अतिरिक्त अन्य किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जा सकेगा। इसके विरूद्ध कोई संस्था अधिक फीस वसूलती है तो प्रचलित नियमों के तहत कार्यवाही प्रस्तावित की जाये। यहां खास बात ये है कि ये निर्देश अशासकीय संस्थाओं ने तो पालन कर लिए पर शासकीय विद्यालयों ने छात्र-छात्राओं से जमकर ज्यादा फीस बसूली है।
वर्ष 2020-21 शिक्षण सत्र में हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी में छात्र-छात्राओं के प्रवेश संस्थाओं द्वारा आॅफलाईन एवं आॅनलाईन दोनों तरीके से लिए गये है इसमें ऐसे भी स्कूल है जिनकी विषयवार एडमीशन फीस अलग-अलग निर्धारित है बता देें कि टीकमगढ़ शहर में शासकीय हाई स्कूलों की संख्या 04 और शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूलों की संख्या 04 है। शासकीय उत्कृष्ट हायर सेकेण्डरी स्कूल क्रमांक-1 के प्राचार्य रविन्द्र सक्सेना ने बताया कि कक्षा-11 से 1140 एवं कक्षा-12 से 1240 एडमीशन फीस ली जाती है, शा. हायर सेकेण्डरी स्कूल क्रमाक-2 के प्राचार्य हनुमंत सिंह चैहान ने बताया कि कक्षा-9,10,11,12 वाणिज्य और विषय से 960 एवं विज्ञान विषय के कक्षा-9,10,11,12 के छात्रों से 1010 रूपये एडमीशन फीस ले रहे है, शासकीय गल्र्स हायर सेकेण्डरी स्कूल की प्राचार्य श्रीमती अरूणा नुना ने बताया कि कक्षा-11 से कला एवं वाणिज्य विषय 610 एवं विज्ञान विषय से 660 रूपये एवं कक्षा-12 से कला, वाणिज्य विषय की 510 रूपये एवं विज्ञान विषय की 560 रूपये एडमीशन फीस ली जा रही है इसी प्रकार शासकीय माॅडल हायर सेकेण्डरी स्कूल के प्राचार्य डाॅ. आर.के जैन ने बताया कि उनके यहां आॅफलाईन एडमीशन किये गये है। कक्षा-11 से 410 रूपये एवं कक्षा-12 के छात्रों से भी 410 रूपये एडमीशन के लिए गये है। वही हाई स्कूल एडमीशन के बारे में शासकीय सीनियर बेसिक हाई स्कूल के प्राचार्य शरद खरे ने बताया कि कक्षा-9 में रूपये 775 एवं कक्षा-10 में 1430 रूपये एडमीशन फीस के लिए जा रहे है, शासकीय शिशु मंदिर हाई स्कूल के प्राचार्य मदन मोहन रजक ने बताया कि कक्षा-9 में 800 रूपये एवं कक्षा-10 के छात्रों से 1520 रूपये एडमीशन फीस जमा कराई जा रही है। इसके अलावा शासकीय हाई स्कूल महाराजपुरा के प्राचार्य बी.एल. साहू ने बताया कि कक्षा-9 के छात्रों से 975 रूपये एवं कक्षा-10 के छात्रों से 1625 रूपये एडमीशन फीस ले रहे है और शासकीय हाई स्कूल अनंतपुरा के प्राचार्य संजय पाठक ने बताया कि कक्षा-9 से 950 रूपये एवं कक्षा-10 के विद्यार्थियों से एडमीशन फीस 1580 रूपये जमा करा रहे है।
यहां खास बात ये है कि म.प्र. शासन एक, स्कूल शिक्षा विभाग एक, शासन की नीति एक, नियम, मापदण्ड निर्देश सभी के लिए एक, विद्यार्थियों के लिए विषयवार पाठ्यक्रम एक, परीक्षाएं भी एक समय पर होती है तो फिर बोर्ड की निर्धारित फीस हाई स्कूल सिर्फ 310 एवं हायर सेकेण्डरी की फीस भी सिर्फ 310 है इसमें शासन की निर्धारित फीस क्रियाकलाप,स्काउट और गाइड,क्रीड़ा,रेडक्रास,विवेकानंद कैरियर,विज्ञान,स्थानीय परीक्षा के लिए कक्षा 09 के लिए 300 रूपये,कक्षा 10 के लिए 300 रूपये,कक्षा 11 के लिए 310 रूपये और कक्षा 12 कला वाणिज्य 310 विज्ञान 360 रूपये जमा कराये जाते है कुल मिलाकर बोर्ड और शासन की फीस भी जोड़ दे तो ये राशि 670 के लगभग होती है तो फिर क्यों टीकमगढ़ शहर के शासकीय हायर सेकेण्डरी एवं शासकीय हाई स्कूल में अध्ययन करने वाले छात्र-छात्राओं से एडमीशन के नाम पर 1000 से 1600 रूपये की राशि बसूली जा रही है इससे सबसे ज्यादा प्रभावित दूर दराज ग्रामीण क्षेत्रों से आये गरीब, बेबस, दलित, आदिवासी एवं अल्पसंख्यक वर्ग के छात्र-छात्राएं प्रभावित हो रहे है।जनहित एवं छात्रहित में कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी सुभाष कुमार द्विवेदी से नागरिकों ने अनुरोध किया है कि मामले उच्च स्तरीय जांच कराई जाकर निर्धारित शुल्क ही लिया जाये ।

इनका कहना है-
शहर के जिन स्कूलों ने छात्रों से निर्धारित फीस से ज्यादा एडमीशन फीस ली है इसकी जानकारी ली जायेगी जिसे कलेक्टर साहव के समक्ष पेश किया जायेगा।
– जे.एस.बरकड़े, जिला शिक्षा अधिकारी टीकमगढ़

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close