अर्थव्यवस्थादेशनई दिल्ली

आईये जानते हैं देश का आम बजट कैसे होता है तैयार? ये है पूरी प्रक्रिया-

थोड़ी देर में होगा देश का आम बजट पेश

नई दिल्ली:  थोड़ी देर में देश का आम बजट पेश किया जा रहा है. लेकिन क्या आपको मालूम है कि देश का बजट कैसे बनता है और इसे कौन बनाता है? इस प्रक्रिया में कौन-कौन शामिल होते हैं और किस प्रिटिंग प्रेस में इसकी छपाई होती है?

तो चलिए आपको बताते हैं कि वित्त मंत्रालय के अंदर ही अत्याधुनिक प्रिटिंग प्रेस बना हुआ है. वित्त मंत्रालय के लगभग 100 कर्मचारी कई दिनों पहले से ही इस प्रेस में बंद हो जाते हैं. इन कर्मचारियों के रहने खाने-पीने वगैरह का इंतजाम प्रेस में ही होता है. अगर कोई कर्मचारी बीमार पड़ जाए तो उसके लिए एक डॉक्टर का भी इंतजाम होता है. कर्मचारी की बीमारी अगर ज्यादा गंभीर है तो उसे राममनोहर लोहिया अस्पताल ले जाया जाता है जहां कड़ी सुरक्षा में उसे भर्ती कराया जाता है, लेकिन वहां उस बीमार कर्मचारी के परिवार को भी उससे मिलने नहीं दिया जाता.

31 जनवरी को वित्त मंत्रालय के 250 औऱ पीआईबी (PIB) के करीब 100 अधिकारी व कर्मचारी प्रेस पहुंचते हैं, जिसके बाद उनका बाहरी दुनिया से सपर्क टूट जाता है. पीआईबी की टीम में सूचना अधिकारियों के साथ एनआईसी (NIC) के भी लोग शामिल होते हैं. सभी लोग वित्त मंत्री का भाषण खत्म होने के बाद ही प्रेस से बाहर निकल सकते हैं.

इसके साथ ही कुछ वरिष्ठ अधिकारियों को विशेष पास मिलता है जिसके आधार पर वो कभी भी अंदर या बाहर आ सकते हैं. सबसे आखिर में वित्त मंत्री के भाषण की छपाई होती है. वित्त मंत्री चाहें तो रात 10 बजे भी अपने भाषण में फेरबदल कर सकते हैं. आईबी (IB) सभी के लिए विशेष पास जारी करता है जिसके आधार पर ही कोई भी प्रेस में आ जा सकता है. विशेष क्षेत्र से निकलने के पहले पास जमा कराना जरुरी होता है.

अब ढ़ाई हजार कॉपी छापी जाती है जबकि पहले ये संख्या आठ हजार थी. ढ़ाई हजार में आठ सौ के करीब तो केवल सांसदो के लिए होता है. छपाई व पैकिंग पूरा हो जाने के बाद विशेष सुरक्षा दस्ते के साथ दस्तावेज संसद भवन पहुंचाया जाता है. संसद भवन में उसे वहां के सुरक्षा अधिकारी अपने कब्जे में ले लेते हैं. वित्त मंत्रालय में मीडिया को पहली दिसंबर से आने पर रोक लगा दी जाती है. केवल विशेष परिस्थितियो में विशेष पास के आधार पर ही मीडियाकर्मी वित्त मंत्रालय के भीतर जा सकते हैं.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close