देश

लक्ष्मण के 281 रन किसी भारतीय की सर्वश्रेष्ठ पारी: राहुल द्रविड़

लक्ष्मण की किताब ‘‘281 एंड बियोंड’’ के लॉन्च के मौके पर गुरुवार की रात इस पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा, ‘‘ किसी भारतीय के द्वारा खेली गयी सर्वश्रेष्ठ पारी को देखने के लिए मैं मैदान में सबसे बेहतरीन जगह पर था।’’

महान भारतीय बल्लेबाज राहुल द्रविड़ ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ईडन गार्डन्स में खेली गयी वीवीएस लक्ष्मण की 281 रन की पारी को किसी भारतीय द्वारा खेली गयी सर्वश्रेष्ठ पारी करार दिया। अपने जमाने में भारतीय टीम की दीवार के नाम से प्रसिद्ध इस बल्लेबाज ने कहा, ‘‘ बिना किसी शक के, उस समय की परिस्थितियों और नतीजे को देखते हुए मुझे लगता है कि 281 रन की पारी किसी भारतीय द्वारा खेली गयी सबसे महत्वपूर्ण और महान पारी थी।’’ लक्ष्मण की किताब ‘‘281 एंड बियोंड’’ के लॉन्च के मौके पर गुरुवार की रात इस पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा, ‘‘ किसी भारतीय के द्वारा खेली गयी सर्वश्रेष्ठ पारी को देखने के लिए मैं मैदान में सबसे बेहतरीन जगह पर था।’’

द्रविड़ ने इस ऐतिहासिक पारी के दौरान शाट खेलने की उनकी क्षमता की भी तारीफ की। उन्होंने ने कहा, ‘‘ मैं अभी भी इसकी कल्पना करता हूं कि कैसे वह शेन वार्न के खिलाफ आगे बढ़कर लेग स्टंप से बाहर हटकर कवर की तरफ गेंद को मारते थे। वह ऐसा तब भी आसानी से करते थे जब गेंद लेग स्टंप से काफी दूर टप्पा खाती थी। कोलकाता की स्पिन लेती पिच पर वह मिडिल और ऑफ स्टंप की गेंद को आसानी से फ्लिक कर रहे थे।’’ उन्होंने कहा, ग्लेन मैकग्रा और जैसन गेलेस्पी की गेंदों को वह शानदार तरीके से ड्राइव कर रहे थे। जिस तरह से उन्होंने यह पारी खेली, मुझे लगता है उन्हें बल्लेबाजी करते देखना शानदार अनुभव रहा।’’ द्रविड़ ने कहा कि उन्हें ज्यादा क्रिकेट देखना पसंद नहीं लेकिन वह लक्ष्मण की पारी का भरपूर आनंद लेते है। उन्होंने कहा, ‘‘ यह देखना वाकई में शानदार था। कई बार मैं ज्यादा क्रिकेट देखना पसंद नहीं करता हूं। जब कभी पुराना मैच दिखाया जाता है तब मैं खुद की बल्लेबाजी देखना पसंद नहीं करता हूं। अगर मैं उस मैच में खेल रहा होता हूं तो चैनल बदल देता हूं।’’
इस मैच में 180 रन की पारी खेलने के साथ लक्ष्मण के साथ पांचवें विकेट के लिए 376 रन की साझेदारी करने वाले द्रविड़ ने कहा कि वह अच्छे फार्म में नहीं थे लेकिन लक्ष्मण की बल्लेबाजी से उन्हें काफी हौसला मिला। लक्ष्मण ने कहा कि उन्होंने और द्रविड़ ने गेंद की योग्यता पर बल्लेबाजी की तथा साझेदारी के दौरान दोनों के बीच ज्यादा बातचीत नहीं हुई लेकिन अच्छा शाट खेलने के बाद दोनों एक दूसरे का हौसला बढ़ता थे।
उन्होंने कहा, ‘‘ हमारे लिये वह काफी कठिन परिस्थिति थी। हम मौजूदा स्थिति के बारे में सोच रहे थे। हम फालोआन के बाद 274 रन पीछे थे। हम सिर्फ गेंद की योग्यता के हिसाब से खेल रहे थे। हमारे पास बातचीत के लिए ज्यादा समय नहीं था। हम सिर्फ ‘एक और ओवर’ खेलने के बारे में बात कर रहे थे।’’ किताब के लॉन्च के मौके पर गुंडप्पा विश्वनाथ, रोजर बिन्नी, ईएएस प्रसन्ना, सैयद किरमानी, जवागल श्रीनाथ, अनिल कुंबले, डोडा गणेश, रोबिन उथप्पा और कई अन्य पूर्व क्रिकेटर मौजूद थे।
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close